इन लोगों के घरों में कभी न खाएं खाना- चाणक्य नीति

आज हम आपको एक ऐसी बात बताने जा रहे हैं जो सभी को पता होनी चाहिए, लेकिन गरुड़ पुराण में ऐसा कहा गया है, लेकिन आज कालिका के लोग इसे नहीं मानते हैं । यदि आप सभी आचार्य चाणक्य के बारे में जानते हैं, तो वह एक महान विद्वान भी थे और उन्होंने अपनी चाणक्य नीति में मानव जीवन के बारे में बहुत कुछ कहा । “यह बस तब हमारे ध्यान में आया ।

चाणक्य की नीति इतने लोगों के बारे में बात करना है कि इतने लोगों को घर पर नहीं खाना चाहिए ।

Image Courtesy: Google

1 । अभियुक्त:

आचार्य चाणक्य के अनुसार, लोगों को उन लोगों के घर पर भोजन नहीं करना चाहिए जो किसी भी तरह का पाप करते हैं या कोई अपराध करते हैं । चाणक्य के अनुसार, यदि आप किसी अपराधी के घर भोजन कर रहे हैं, तो आप भी उसके अपराध में शामिल हैं ।

Image Courtesy: Google

2 । गुस्सा:

एक व्यक्ति जो बहुत गुस्से में है और कभी भी खुद के बारे में नहीं सोचता ओर जो मन मे आता कह देता हे, वीसे आदमी के घर गलती से भी खाना नहीं खाना चाहिए, ऐसा व्यक्ति कभी भी अपने जीवन में किसी का सम्मान नहीं कर सकता है, इसलिए जब आप का अपमान किया जाएगा तो आप कल्पना भी नहीं कर सकते । ।

3 । संक्रमित रोगी:

यदि आपको किसी ऐसे व्यक्ति के साथ घर पर खाना है जो संक्रमित है, तो आपको उसके घर पर नहीं खाना चाहिए, अन्यथा आपका परिवार आपके स्वास्थ्य के बारे में बहुत चिंतित होगा । इसलिए आपको ऐसे लोगों से दूर रहना चाहिए ।

Image Courtesy: Google

୪ । चरित्र हिन महिला:

आचार्य चाणक्य ने कहा कि एक चरित्रहिन महिला के साथ खाना या उसके हाथों से खाना सही नहीं है । आचार्य चाणक्य के अनुसार, जो महिला अपने मर्जी से  बुरे काम करते हें या कुछ एसा काम जो एक महिलाको नेही करना चाहिए ओर घर पे  किसिका आदर सत्कार नेही करते, सबसे वुरा बरतब रखते हें वेसि महिला चरित्रहीन होता हे ।  आगे बढ़ने के लिए हमारे साथ बने रहने के लिए हमारे पेज को लाइक करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.