यदि आप जल्द ही करोड़पति बनना चाहते हैं, तो वेश्याओं से सीखें ये १ बात-Shukra Niti

दैत्य गुरु शुक्राचार्य एक महान ऋषि थे और चार वेदों को जानते थे । शुक्राचार्य के सिद्धांत दुनिया में सर्वश्रेष्ठ हैं । राक्षस के गुरु बनने के बाद भी, देवताओं ने भी उनके सिद्धांतों का पालन किया । शुक्राचार्य ने अपनी नीति में नौकरों से लेकर राजाओं तक सभी को महत्वपूर्ण ज्ञान दिया ।

एक नौकर को क्या कर्तव्य करना है या एक राजा का ब्याबहार केसा होना चाहिए, साथ ही एक व्यक्ति को जल्दी से अमीर बनाने के लिए क्या काम करना है और क्या काम नेही करना है, इसका एक बहुत महत्वपूर्ण विचार दिया है दैत्य गुरु शुक्राचार्य ने ।

उन्होंने सत्रुओं के साथ केसा पेस आना हे ओर उनको केसे संहार करना हे इसके वारे मे भी बताया हे । शुक्राचार्य की नीति आज भी उतनी ही मनी जाती हे जितना  प्राचीन काल में मनी जाती थी । आज पाप का बोझ बढ़ता जा रहा है ।

अपनी नीति में, शुक्राचार्य ने एक वेश्या से कुछ इस तरह सीखने को कहा । यदि आप अपने जीवन में इस गुण को अपनाते हैं, तो आप जल्द ही एक अमीर और सफल व्यक्ति बन जाएंगे । हो सकता है हमारे समय में  वेश्याओं का तिरस्कार होता हे,  हमेशा उपेक्षित रहता है, लेकिन उस वेश्याओं से बहुत कुछ सीखना है ।

वेश्याओं में बहुत अच्छे गुण होते हैं जो बहुत फायदेमंद होते हैं । आपको लगता है कि क्या वेश्या में ऐसे गुण हो सकते हैं जो सीखने लायक है । लेकिन ईमानदारी से, वेश्याएं से हम बहुत कुछ  सीख सकते हैं । आपको शायद यकीन न हो, लेकिन शुक्राचार्य ने अपनी नीति में इस पर चर्चा की ।

शुक्राचार्य अपने श्लोक में कहते हैं-

” तदर्थ गृहीत्बापि तदधिना न जाय़ते बेश्य़ा तथाबिधा बापि बासिकर्तुं

नरङ्ग क्षमा नेय़त कश्य़ बसङ्ग तद्बत स्बाधिनङ्ग कार्य्य़जगत”

शुक्राचार्य के अनुसार, एक वेश्या एक ऐसी महिला है जो दुनिया की सभी निम्नतम महिलाओं के बाद हे, लेकिन वो किसिकी गुलाम नहीं है । शुक्राचार्य ने कहा कि  वो किसी आदमी से पेसा लेकर भी उसकी अधीन मे नेही रेहता  । लेकिन वह उस आदमी को खुद के नियंत्रण में रखने में सक्षम है ।

इसी तरह, मनुष्य को किसी के अधीन होने की आवश्यकता नहीं है । लेकिन उसे पूरी दुनिया को अपने नियंत्रण में रखने की जरूरत है । शुक्राचार्य के अनुसार, वेश्या चाहे कितनी भी नीच क्यों न हो, वह कभी किसी की गुलाम नहीं होती ।

लेकिन उसके पास इतनी शक्ति है कि वह अपने पास आने वाले व्यक्ति को अपना दास बनाकर रख सकता है । वह किसी को अपने रूप में प्यार दिखा कर अपने नियंत्रण में कर सकता है । इसी तरह, मनुष्य को किसी भी चीज़ के अधीन होने की आवश्यकता नहीं है । हमारे साथ बने रहने के लिए हमारे पेज को लाइक करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.